नवोत्पल में आपका स्वागत है...!

Monday, February 27, 2017

#२# विश्वविद्यालय के दिन: श्रीश पाठक 'प्रखर '

खलीलाबाद में पिछले दो दशकों से मेरा परिवार बस गया था । माँ सरजू के तट से लगे गाँव बईसा से लगभग ३० किमी दूर उत्तर में स्थित खलीलाबाद अब तहसील से जनपद हो गया था । कहते हैं कि जमींदार खलीलुर्रहमान के नाम पर इस पुराने कस्बे का नाम खलीलाबाद पड़ा ।  खलीलुर्रहमानदुनिया में कई और जगह भी हुए होंगेकुछ उसमें रसूखदार भी रहे होंगे तो कुछ की याद में शहर भी बने होंगे ही  तो;  हाँ जनाबइस दुनिया में खलीलाबाद कई और भी मुल्कों में हैं । पर कबीर के मगहरगोरखनाथ के गोरखपुर और बुद्ध के सिद्धार्थनगर से गलबहियां करता शहर तो हमारा वाला ही खलीलाबाद है ।

गोरखपुर विश्वविद्यालय की दूरी खलीलाबाद से लगभग ३५ किमी थी । कक्षाएं लेने के लिए यह समझाया गया कि रेलवे का मासिक पास बनवाया जाय और रोज रेलवे से आया जाया जाय । पापाजी चाहते थे कि इसे जरुर ही हास्टल (हॉस्टल कहते हैं यह तो कम से कम मुझे दिल्ली आकर पता चला) में रहना चाहिए वरना इसे पता नहीं चलेगा कि दुनिया कैसी है और इसके रंग कैसे हैं...! लेकिन जब तक हॉस्टल नहीं मिलता तब तक तो ट्रेन से सफ़र करना होगा ।

मासिक पास बन गया था । झुण्ड के झुण्ड छात्र झटके से ट्रेन में चढ़ते और एक घंटे में हम गोरखपुर पहुँच जाते । ज्यादातर के गाल पिचकेआँखें धंसीजुल्फे बेपरवाहशर्ट इन नहींमोहड़ी मुडी हुईबाकी चीजें  जैसी भी हों भाई साहब लेकिन जूते जरुर शानदार रहते थेखासकर स्पोर्ट शूज । ओहढंग जो भी हो क्या उमंग था स्टूडेंट्स में । शकल देख के समझ आ जाता कि कौन डिग्री कॉलेज का स्टूडेंट है और कौन इनवस्टी का ।  लपक कर हाथ ऐसे मिलाते थे जैसे किसी देश के आलाकमान हों और हैंडशेक का देसी तरीका भी निकल आया था । हाथ मिलाने के बाद दोनों जन अपने अपने हाथ अपने अपने सीने से हल्का सा लगा लेते थेतो हम मॉडर्न भी हो लेते थे और ठेठ भीकर लो हमारा जो करना है अमरीका वालों।




ट्रेन का वह एक घंटा बड़ा ही रोमांचक होता था । इसमें जरुर कुछ ऐसा मिल जाता था जिसपर हम लोगों से दिन भर बतिया सकते थे । ट्रेन के अन्दर ही घंटे भर के लिए इनवस्टी उभर आती थी और फिर वो झूम के परिसर में खिल जाती । ट्रेन और प्लेटफ़ॉर्म की एक अलग ही दुनिया होती है । नथुनों में वो बू बस जाती है जो वहां पायी जाती है । भारत का कोई प्लेटफ़ॉर्म होआपको वो बू जरुर मिल जायेगी । बोगियों में सहसा जब हम छात्र बैठते तो अक्सर हम स्लीपर क्लास में बैठते । एक घंटे की ही तो बात होती थी । ज्यादातर दिल्ली के मुसाफिर होते थेजिन्हें गोरखपुर उतरना होता था । कुछ लोग बड़े नाक भौं सिकोड़ते पर कर कुछ नहीं पाते थेक्योंकि वो लोग भी भले आज हाफ पैंट-बरमुडा में जर्नी करने लग गए हों और दिल्ली की भाषा ने उनके 'हमको 'मैमें तब्दील कर दिया होरुमाल व गॉगल्स का इस्तेमाल बेवज़ह भी करने लग गए होवे जानते हैं कि जब वे पक्के गोरखपुरी थे तो पान की पीक कितनी दूर तक छोड़ते थे । उन्हें ईल्म इतना तो था ही कि पक्के पूर्वांचली से कच्चे डेल्हाईट्स बन मुकाबला नहीं किया जा सकता थावो भी तब जब ट्रेन गोरखपुर पहुँचने ही वाली हो । 

बात केवल दबंगई की नहीं थी । ये छात्र गंवार भी तो नहीं थेइस उम्र के छात्र अख़बारों के सम्पादकीय अब पढने लग जाते हैंतो इनसे एकतरफा बहस भी नहीं की जा सकती थी । खैर मुझे ये सब तो धीरे धीरे महसूस हुआपर उस दिन आश्चर्यचकित हो गया कि ये जो मासिक पास है वो कायदतन प्रथम श्रेणी के डिब्बे के लिए था । कुछ देर बाद ही अन्तःप्रज्ञा ने अंगड़ाई ली और आवाज आयी- यारये सरकार बड़ी बदमाश है अपने नौनिहालों को प्रथम श्रेणी के डिब्बे का पास देती हैऐसे करेंगे ये शिक्षा का विकास । 

ज़ाहिर है उस वक़्त तक मै यह नहीं देख पा रहा था कि - लोगों की अलग अलग माली हालत पर बेशर्मी से मुहर लगाते हुए लोककल्याणकारीसमाजवादी लक्ष्यों वाली, 'हम भारत के लोगवाली सरकार ने सार्वजनिक यातायात के सबसे बड़े माध्यम को भी लगभग उतनी ही श्रेणियों में बाँट रखा है । और यह विभाजन अभी भी हैनज़र भी नहीं आता और नज़र आता भी है तो उसमें कुछ ग़लत नज़र नहीं आता । 

काश  हमारा महान भारत दुनिया का पहला ऐसा देश होताजहाँ ट्रेनों में बस एक ही श्रेणी होतीतो क्या हुआ थोड़ी कम ही सुविधाएँ होतीं. अंगरेजी पूंजीपतियों द्वारा लाई गयी ट्रेन में जब नवीन भारत के कर्णधार समाजवाद स्थापित कर अपना मौलिक हस्तक्षेप करते तो यह उदाहरण सोवियत के भी किसी भी उदाहरण से अधिक उदात्त होता । जब सभी एक साथ यात्रा करते तो तीर्थ साकार होतासमरसता बढ़तीसंवेदनशीलता बढ़ती और तब साफ़-सफाई हर बोगी में होतीकेवल कुछ में नहीं । भगवान के लिए कोई अर्थशास्त्री ये ना कहे कि दुनिया में कहीं ऐसा नहीं होतातो हम कैसे कर सकते हैं;  क्योंकि अचानक टर्की ने आधुनिकता का चोला पहना तो भी कोई विश्वास न कर सका थाजर्मनी फिर फिर खडा हो जाता थातो विश्वास  नहीं होता थाजापान ने १९०५ में ही विशालकाय रूस को धूल चटा दीतो विश्वास नहीं होता थातेरह छोटी-बड़ी कॉलोनियों से बना नया नवेला संयुक्त राज्य अमरीका कभी विश्व की महाशक्ति बन जायेगा किसने सोचा था.....उदाहरण कई और भी हैंऔर जबकि अपने महान भारत के अलावा दुनिया में कोई और देश भी तो नहीं जो उच्च स्वर में 'वसुधैव कुटुम्बकमका शंखनाद करने का आदी रहा हो । 

ट्रेन वो पहली जगह थी जहाँ भांति भांति के लोगों का अलग अलग होना पहली बार मैंने करीब से महसूस किया । इसके पहले मैंने ८-१० बार ही यात्रा की थीट्रेन की । जरुरत ही नहीं थीरिश्तेदार आस-पास ही के थे और गर्मी की छुट्टी आउटस्टेशन मनाने की प्रथा वाला अपना परिवार था नहीं । जिनके पापाजी लोगो का ट्रांसफर हुआ करता थावे ऐसी महान उपलब्धियां साल दर साल बटोरते और हमें सुनातेखैर ! मायूस मन तब भी नहीं होता थाअपने भविष्य पे भरोसा बहुत था ना ! इनवस्टी के बहाने पहली बार ट्रेन में सफ़र का मौक़ा मिला था । जाते वक़्त तो गहमागहमी चरम पर होती थीपर लौटते वक़्त ट्रेनें काफी खाली मिलती । अपना मन तो इनवस्टी में ही रमता थातो सारी कक्षाएं ले के ही आते थेकक्षाएं चलें ना चलें ।


#१# विश्वविद्यालय के दिन: श्रीश पाठक 'प्रखर '


                                                                                                                                                     (क्रमशः )

0 comments:

Post a Comment

आपकी विशिष्ट टिप्पणी.....