नवोत्पल में आपका स्वागत है...!

Saturday, April 8, 2017

ठर्कत्व मे सिर्फ लुढ़कत्व है...! : 'डॉ. गौरव कबीर '


Google Image

समाज मे यूं तो समय-समय पर बहुत सी भावनायेँ प्रबल होती रहती है, परंतु सोशल मीडिया के इस दौर ने जहां समाज को जोड़ने के उपाय दिये हैं वही कुंठित मानसिकता के लोगों को भी प्रश्रय दिया है । इन तमाम कुंठाओं मे ऑनलाइन ठर्कत्व भी एक प्रबल कुंठा है जिस से सभी को कभी न कभी तो रूबरू होना ही पड़ रहा है । इस कुंठत्व से उपजी ठर्कत्व की भावना ने एक नए प्रकार केविमर्श को जन्म दिया है, इस नवीन प्रकार के विमर्श को विद्वानो ने ठरक – विमर्श का नाम दिया है।
Google Image
परिभाषा ठर्कत्व मनुष्य के मस्तिष्क मे  उत्पन्न होने वाली वह भावना है जो मनुष्य मे  विपरीत लिंग के प्रति इतनी ‘बजर’ उत्सुकता पैदा करती है कि मनुष्य अपने हॉरमोन सम्हाल नहीं पाता जिस से वह ऑब्जेक्ट के प्रति अति आसक्ति की ऐसी  विकट स्थिति को प्राप्त कर बैठता है जो कि विकृति कि श्रेणी मे आती  है । बहुत बार  दिमाग का विकृति रूपी केमिकल लोचा वास्तविक जीवन के एसिड लोचा तक पहुँच जाता है और एसिड फेंकने जैसी घिनौनी आपराधिक हरकतें भी कर दी जाती हैं  । ठर्कत्व की मात्रा  स्त्री और पुरुष दोनों मे पायी जा सकती है। आजकल बहुधा इस विकृति को समान रूप से सभी लिंग के लोगों में देखा गया है और  समय-समय  पर  बहुत  सी  घटनाएं  भी  प्रकाश में आती रहती हैं | वर्तमान में तो यह भी पाया गया है कि कभी कभी ये उत्सुकता समान लिंग के  प्रति भी जागती है, पर या संख्या अभी कम है|


ठर्कत्व के कारण -  वर्तमान समय मे ठर्कत्व बहुत गहराई तक पैठ बना चुका है, इतना गहरा कि ठर्कत्व से जकड़ा  व्यक्ति हेल्प-लेस   महसूस करनेलगता है। अब सवाल ये है कि ये हेल्पलेसनेस है क्यूँ ? तो इसका पहला कारण तो ये तथाकथित संसारों से जकड़ा समाज है जो व्यक्तिकी बहुत सी प्रकृतिक भावनाओं पर भी मर्यादा के नाम पर रोक लगाता है, ये दमित भावनायेँ ही कालांतर मे ठर्कत्व जो जन्म देती है। इसे इस बात से भी समझा जा सकता है की युवा अवस्था मे ठरकियों की संख्या  अधेड़ और 55+ वालों से बहुत कम होती है । जब कि उम्र बढ्ने के साथ इसमे वृद्धि दिखाई देने लगती है। ऐसे दमित ईच्छा वाले व्यक्ति को किसी ऐसे साथी (ऑब्जेक्ट) की तलाश रहती है जो उसकी क्रियाओं को समझ सके, पर समाज के डर से वह सीधे जा कर अपनी बात  नहीं कह पाता और मेघनाथ की भांति छुप छुप कर बादलों के पीछे से वार करता है। परंतु ये दमित ईच्छा इनको हमेशा बादलों के पीछे छिपने भी कहाँ  देती हैं ?

Google Image
दमित इच्छा  फ्रस्ट्रेशन (कुंठा) को जन्म देती  है , एक ऐसी कुंठा जिस में व्यक्ति बहुत देर तक अपने आप पर काबू नहीं कर पाता है और  फिर  चाहे-अनचाहे  ठरकी व्यक्ति पर्दे से बाहर आ ही जाता है और साथ ही बाहर  आ जाती हैं उसकी ठर्कत्व से भरी हरकतें । फ्रस्ट्रेशन  और ठर्कत्व मे समानुपाती संबंध पाया जाता है अर्थात जैसे जैसे फ़्रस्ट्रेशन बढ़ेगा वैसे वैसे  ठर्कत्व भी बढ़ेगा | जिसका  फ्रस्ट्रेशन जितना ज्यादा होता है उसका ठर्कत्व उतना ही ज्यादा प्रबल होता है। ठर्कत्व में  यह फ़्रस्ट्रेशन मूलतः सेक्सुअल होती  है पर इसकी शुरुवात किसी अन्य प्रकार के फ़्रस्ट्रेशन से भी  हो सकती है|



ठर्कत्व के प्रकार :

(1) उत्सुक ठर्कत्व

इस प्रकार केठर्कत्व मे सिर्फ उत्सुकता होती है , जो किशोरावस्था मे पनपती है और समय के साथ इसमे कमी आने लगती है | पर वर्तमान समय मे यह 45+लोगो  मे भी पाई जाने लगी है , कुछ लोग इसकेलिए एकाकी परिवारों और सोशल मीडिया को प्रमुख कारक मानते है | यह ठर्कत्व मूलतः कोमल हृदय वाले व्यक्तियों  मे पाया जाता है जो स्वयम को प्रेम से वंचित माना करते है (होतेहै) | 45+ वाले बहुत से लेखक प्रजाति के व्यक्ति  यह कहते पाये जाते हैं कि उन्होंने “दाम्पत्य तो जिया है पर प्रेम नहीं जिया” और यह पंक्ति सब से बड़ी फँसाऊ पंक्ति मानी जाती है ।

(2) भावुक ठर्कत्व

इस प्रकार केठर्कत्व से पीड़ित व्यक्ति इमोशनलब्लैक-मेलिंग के द्वारा अपने शिकार को फँसाने की कोशिश  करते है , जिस के लिए वो सामान्यता खुद को अपने पार्टनर द्वारा सताये जाने या निहायत ही अकेला होने का दावा करते है, जो कि ज़्यादातर मामलों मे गलत ही साबित होता है। ( हालांकि कुछ मामलों मे उनके पार्टनर टूटे हाथ-पैर की तस्वीर  भी सोशल मीडिया पर  पोस्ट कर देते है, जो कि इस भावुक ठरकी द्वारा की गई पिटाई से ही टूटे होते हैं । )

(3) बाहुबली ठर्कत्व

 उत्तर भारत मे बहुतायत मे पाया जाने वाला यह दबंग प्रकार का ठर्कत्व पूरे भारत मे ही दिख जाता है।  इसप्रकार का का ठर्कत्व धारण करने वाले प्राणी खुद को अति शक्तिशाली समझते है अतः स्वाभाविक रूप से यह महिलाओं की अपेक्षा पुरुषो मे ज्यादा पाया जाता है। इसके प्रभाव मे आकर हिंसक गतिविधियों की संभावना बढ़ जाती है, पीछा करना, छेड़ना , एसिड फेंकना ,बलातसंघ आदि घिनौने  अपराध इसी बाहुबली ठर्कत्व के कारण दिन ब दिन बढ़ रहे है।

ऑनलाइन दुनिया मे भी इस का व्यापक प्रभाव है जहा पकड़े न जाने की भावना होने के कारण पुरुष और महिला दोनों हीबराबर रूप से उत्पीड़ित और उत्पीड़क रिपोर्टकिए  जा रहे हैं।  

(4) पुनःपुनः ठर्कत्व  अथवा बारम्बार ठर्कत्व

एक ही व्यक्ति पर यदि बार बार ठरकपन जागे तो उसे बारम्बार ठर्कत्व कहते है “या” यदि एक ही व्यक्ति अलग-अलग व्यक्तियों को देख कर ठरके तो उसे भी बारम्बार ठर्कत्व कहा जा सकता है। इस प्रकार की ठरक रखने वाले व्यक्ति हर जगह पाये जाते है । एक विशेष सीमा के बाद ये एक प्रकार की मनोवैज्ञानिक बीमारी ही मान ली जाती है , इस प्रकार की ठरक के शिकार बहुत से लोग साइको किलर बनते भीदेखे गए है। इस प्रकार का ठर्कत्व यदि समझना हो तो हमे हिन्दीफिल्म डर मे शाहरुख के किरदार को समझना होगा।

(5) व्यर्थ ठर्कत्व

ऐसे ठरकी जो प्रयत्न कर कर के असफल होते हैं और अंत मे जानवरों तक को भी नहीं छोड़ते ,इस प्रकार मे आते हैं। यह एक खतरनाक कुंठा और ऐसे लोगों को हमेशा खुद से और विशेषकर बच्चो से दूर रखा जाना चाहिए।


यहाँ इस बात को समझना आवश्यक है कि  ठर्कत्व किसी भी सूरत मे लाभकारी नहीं होता एवं यथा संभव इस से बचने का प्रयास किया जाना चाहिए। ठरकत्व में व्यक्ति का पतन निश्चित  है इसलिए सूत्र वाक्य में कहा जा सकता है कि "ठर्कत्व में सिर्फ लुढ़कत्व है"। इस बात पर सदैव जोर रहे कि  इस मानसिक रोग  से स्वयं को न ग्रसित करे और समाज में या हमारे आसपास किसी को ये रोग है तो उसका इलाज कराया  जाये , पर इस रोग से ग्रसित व्यक्तिओं से एक सुरक्षित दूरी अवश्य बना कर रखी जनि चाहिए |  इसे समझने के लिए आप खुली नज़र से समाज के घटनाक्रम को देख सकते है, जहा हर रोज़ एक नया उदाहरण दिख जाएगा जब कोई स्त्री/पुरुष और विशेषकर बच्चा ऐसे लोगो का शिकार बनता है ।  समय आ गया कि हम ऐसे लोगों को पहचान कर समाज मे चिन्हित कर लें और अपने प्रियजनों विशेषकर बच्चों को एक सुरक्षित माहौल प्रदान करें ।









लेखक परिचय  : डॉगौरव कबीर  मूलतः गणित और संख्या से खेलते हैं,  गणितीय सांख्यिकी में शोध किया है, पर इनके भीतर कहीं बसता है एक साहित्यिक रसिक ! सिनेमा , पढ़ाई और घूमने फिरने के शौक़ीन हैं ! फिलहाल गोवा इनका ठिकाना है।  
gauravkabeer1703@gmail.com 

0 comments:

Post a Comment

आपकी विशिष्ट टिप्पणी.....