नवोत्पल में आपका स्वागत है...!

Monday, September 11, 2017

हमारे वो तो हमसे प्यार ही नहीं करते .... : कहानी (2) - रचना भोला 'यामिनी'


हमारे 'वो'

क्या कभी उनके सर को गोद में रख कर हौले-हौले सहलाया/ क्या कभी उनकी बंद पलकों के नीचे उंगलियों से घेरे बनाते हुए यह जानना चाहा कि उनके बीच कितने सपने गहरी नींद सो चुके हैं जो अब कभी नहीं जागेंगे, वे उन्हें गृहस्थी के यज्ञ में होम कर चुके हैं / क्या कभी उनकी हथेलियों क़ी लकीरों में छिपी दर्द क़ी परतों को देखा, हाथों पर उभर आई गांठों में वे अपने सारे अनकहे दर्द और पीड़ाओं की पोटलियाँ छिपाए रखते हैं / क्या कभी उनकी छाती पर उगे बालों में उभरते घूमर गिने..वे पूरे ब्रह्माण्ड में चक्कर काटते ग्रह-नक्षत्रों से भी अधिक हैं /एक-एक घूमर में वे जाने कितने भाव लिए डोल रहे हैं / क्या कभी ये जाना कि मुख से एक भी शब्द कहे बिना जब वे आपको तकते हैं तो उन पलों में वे एक पूरी प्रेम कथा बांच देते हैं / क्या कभी सुनाई दी आपको? क्या कभी ध्यान से देखा कि जब वे बंद होठों क़ी कोर से ज़रा सा मुस्कुराते हैं तो चाँद कैसे मुँह छिपाता फिरता है और हवा दुपट्टा लहराती बाला की तरह इठला कर आपके पास से निकल जाती है / क्या कभी महसूस किया कि बस कुछ पल को उन बाँहों की जकड़न में बंधने का मौका मिल जाए तो सात जन्मों का भार दिल से उतर जाता है/ साल में दो बार औपचारिकता क़े नाते उनके चरणों को स्पर्श करने क़े अलावा कभी उनके पैरों को धो पोंछ कर प्यार से दबाया होता तो जान जातीं क़ि जीवन के  ऊबड़ खाबड़ रास्तों पर आपके साथ चलते -चलते अब उनके पैर भी पहले से नरम और मुलायम नहीं रहे..अपने गठिया के दर्द क़ी हाय - हाय से फुर्सत पातीं तो जान लेतीं कि अब उनकी देह भी कड़े श्रम से थकने लगी है/ वे भी अपनी देह पर नेह से भरा स्पर्श चाहते हैंजब आप दीन-जहाँ क़ी बेसिर पैर क़ी बातों को उनके कानों में उड़ेलते हुए सारे दिन का राग अलाप रही होती हैं, तो वे आपके साथ का सुख पाने के लोभ में ही सभी बातों पर लगातार गर्दन हिलाते चले जाते हैं भले ही आपकी कहानी का एक भी शब्द उनके पल्ले पड़ रहा हो/ केवल दो वक्त का भोजन और प्रेस किए हुए कपड़े थमा कर अपने कर्तव्य की इतिश्री मान लेती हैं, भूल गईं कि किसी माँ ने अपना बेटा बहुत ही भरोसे और मान के साथ सौंपा था / जिसने सारे जहाँ को पीछे छोड़ आपसे अपना नाता जोड़ा.. जो आजीवन परिवार के लिए एक मशीन की तरह खटता चला जा रहा है...क्या आपको उस छह फुट के मर्द में छिपा बालक नहीं दीखता जो मेले में अकेले छूट गए बच्चे क़ी तरह खोया-खोया डोलता है ? उसे भी ममतामयी स्पर्श क़ी चाह है..वह हमेशा शरीर की भूख मिटाने को आपके पास नहीं आता..उसे भी पीठ पर जीवन क़े कठिन समय में किसी का हौंसले से भरा हाथ चाहिए / वह भी सारी दुनिया से छिपा कर अपनी नाकामयाबी और पीड़ा का भार कम करने के लिए दो आंसू बहाना चाहता है/ लाख घर का मुखिया हो पर उसके भीतर भी तो एक बालक है..आप अपने पुरुष की प्रकृति हैं..उसकी शक्ति हैं..उसके जीवन का सम्बल हैं/ कैसे भूल गईं कि उसकी साँसों क़ी गंध ने कभी आपके जीवन को महका दिया था , उसका नाम सुनते ही आपका चेहरा अबीर हो उठता था, उसकी एक आवाज़ को सुन आप लरज़ जाती थीं, कभी जिसके पास से हो कर गुज़रना या सट कर बैठना भी किसी वरदान से कम नहीं दीखता था, कभी सबसे छिपा कर बार-बार मिट्टी में उसका नाम लिखना आपका मनपसंद शगल था/ अब आपको उस शख्स का वह रूप दिखाई ही नहीं देता/ आप भूल गईं कि आपके बच्चों का पिता; आपका प्रेमी, आपका साजन, आपका प्रिय, आपका अपना साथी भी है, वह आपकी आत्मा का एक अंश है, आप दोनों के मेल से ही यह सृष्टि संभव हुई है, आप दोनों का साथ जीवन की अनमोल पूँजी है/ उनके दम पर आपके जीवन के सारे चिराग रोशन हैं / आपके सारे व्रत उपवास और देवी देवतों के चढ़ावे उनके नाम पर ही तो हैं/ ...ज़रा सा वक्त उनके लिए भी निकालें, भूल कर दुनिया के रंज़ो गम... बस उन्हें महसूस करें , यकीन जानें आपकी एक हलकी सी छुअन से उनके दिल पर लगे सात ताले खटाक से खुल के जायेंगे/ भीतर से निकलेगा अमृत से भरे भावों का ऐसा कलश जो अपनी स्नेहधारा से आपको सराबोर कर देगा ....!
चित्र: \नेहाल आजमी-cellclicks


ओह....हद हो गई..स्ट्रांग कॉफ़ी क़ी पिनक में जाने क्या-क्या बक गयी..माफ़ कीजिएगा मैडम जी...आपका समय जाया किया...आप तो निकलिए.... कहीं बिग बॉस का शो ही छूट जाये..दूसरे घरों क़ी मैली पोटलियाँ खुलती देख कितना आनंद आता है..भले ही वे घर काल्पनिक क्यों हों.. किसी सास बहू का सीरियल रहा होगा..या फिर देश क़ी सभी ख़बरों पर नज़र भी तो रखनी है, भाई आधुनिक नारी जो ठहरी , चलिए कल क़ी किटी या कीर्तन क़ी तैयारी भी करनी है...रसोई का झंझट तो सर पर सवार है ही.. मुए के लिए करवाचौथ का व्रत भी रखना है...क्या कोई मज़ाक है, पता है कितनी तैयारी चाहिए. अगर हाथों क़ी नेल पोलिश से ले कर अंतर्वस्त्रों तक का रंग ड्रेस से मेल खाता हुआ तो समझो सब बकवास हो गया/ ठीक है..बस घर सही तरह चलना चाहिए..आप खर्च करती रहें .घोड़ा कमा कर लाता रहे और गधा ही क्यों बन जाये, बस घर चलता रहना चाहिए, बाकी तो बेकार के चोंचले हैं जी... अब तो बाल बच्चे भी बड़े हो गए.. ये सब शोभा नहीं देता
आप तो चार औरतों के बीच बैठें और किसी दुखियारी क़ी तरह रोनी सूरत बना कर कहना भूलें !

हमारे वो तो हमसे प्यार ही नहीं करते ....!


rachnabhola25@gmail.com

0 comments:

Post a Comment

आपकी विशिष्ट टिप्पणी.....